स्टार्टअप व्यवसायियों के लिए फाइनेंसियल प्लानिंग टिप्स !

0
123
Financial Planning Tips For Startup Businessman

यदि हम स्टार्टअप की बात करें, तो आये दिन हजारों स्टार्टअप देश में शुरू होते हैं और लगभग उतने ही बंद भी होते हैं ! अगर हम इन आंकड़ों का प्रतिशत निकालें तो 100% स्टार्टअप्स में से लगभग 85% स्टार्टअप्स 1 से 3 साल में ही बंद हो जाते हैं, और इसके पीछे सबसे बड़ा कारण होता है, स्टार्टअप व्यवसायी के द्वारा सही फाइनेंसियल प्रबंधन का ना होना ! इस हालात से उबरने के लिए आज हम यहाँ इस आर्टिकल में बताने जा रहे हैं, स्टार्टअप व्यवसायियों के लिए फाइनेंसियल प्लानिंग टिप्स ! जो आपके स्टार्टअप को सुचारु रूप से चलाने में आपके लिए मददगार साबित होगा !

ज्यादातर स्टार्टअप व्यवसायी अपने पर्सनल फाइनेंस (Personal Finance) से जुड़े मसलो को अक्सर अनदेखा करते रहते हैं, उनका पूरा का पूरा ध्यान सिर्फ Business से जुड़े वितीय प्रबंधन पर होता हैं ! उन्हें लगता है की, अगर Business अच्छा चलेगा तो उनकी पर्सनल जिम्मेदारियां अपने-आप पूरी हो जाएगी। और ऐसे में वो अक्सर Business के जोखिम से जुड़े पहलुओ को भी नज़रअंदाज करते जाते हैं, जो की एक दिन उनके जीवन में एक इम्बैलेंस लाकर खड़ा कर देता है, और इस वजह से उनका Business डूब जाता है।

ऐसे में यदि आप भी छोटे व्यवसायी हैं, या आपने अभी अभी कोई स्टार्टअप शुरू किया है ! और आपने अपने Business और Personal Finance का अलग-अलग प्रबंधन नहीं कर रखा हैं तो यकीन मानिए यदि आपके Business में दिक्कते आती है तो उसका असर आपके Personal Finance पर भी होगा और जैसे ही आपका Personal Finance Disturb होता है, इसका सीधा असर आपके Business पर भी आना शुरू हो जाता है। इस हालात से उबरने के लिए आपके Business Goals ऐसे होने चाहिए, जो आपके Personal Finance Management में भी मददगार हो। और आप अपने Business एवं Personal जरूरतों के लिए सही से वितीय प्रबंधन (Financial Management) कर सके, इसके लिए आपको निचे दिए इन बुनियादी बातोँ का ध्यान अवश्य रखना चाहिए।

(1) अपने Business और Personal जरूरतों के लिए अलग से Emergency Fund अवश्य रखे !

जब आप किसी Business की शुरुआत करते हैं, तो शुरूआती दिनों में ही वह आपको इतना पैसा नहीं देता की आप अपने Business और Personal जरूरतों को आसानी से पूरा कर सकें ! ऐसा भी हो सकता है की कुछ महीनो तक आपको बिलकुल आमदनी ना हो ! ऐसे में आपको अपने बिज़नेस का Running Expense भी देखना होता है, और अपनी पर्सनल जरूरतों के लिए भी पैसे की जरुरत होती है ! ऐसे में यदि आपका, आपके Business के Cash Flow पर नियंत्रण नहीं हैं या इसको आपने अलग करके नहीं रखा हैं तो कई बार आपको Business से सम्बंधित खर्चो के लिए भी Savings से पैसे निकालने पड़ सकते हैं। जिसकी वजह से आपका Business और Personal Finance दोनों ही प्रभावित होता है ! ऐसे में आपको चाहिए की इसकी पूर्ति के लिए कम से कम छह महीने का Business Emergency Fund और Personal Emergency Fund अवश्य बनाकर रखें।

(2) सभी तरह के Risks के लिए उचित बीमा अवश्य कवर ले !

यदि आप एक Business का संचालन कर रहे हैं, तो आपको अपने स्वास्थ्य और दुर्घटना जैसे निजी Risks के अलावा आपके Business में भी आग, चोरी, कर्मचारियों के विश्वासघात-एक्सीडेंट आदि जोखिमो का सामना करना पड़ सकता हैं। वही यदि आपके साथ कोई परेशानी हो तो लेनदारो के जोखिम को भी Manage करने की जरुरत होती हैं। ऐसे में इन सभी जोखिमो को Handle करने के लिए आपको उचित बीमा कवर अवश्य रखना चाहिए ! इसके साथ ही आपको अपने परिवार के लिए भी उचित उचित बीमा कवर अवश्य लेना चाहिए, इससे जीवन में आपात स्थिति आने पर भी आपका Business वितीय रूप से प्रभवित नहीं होता है।

(3) अनुसाशित रहे और खुद भी कर्मचारियों की तरह काम करें !

किसी भी Business में अनुशासित बने रहने के लिए यह बेहतर होता हैं की, आप खुद को Salary ही दें ! इससे आपको अच्छे से और अधिक काम करने की प्रेरणा मिलती है। यदि आप चाहें तो कंपनी के नियम के अनुसार अगले साल कर्मचारियों के वेतन के साथ अपना वेतन भी बढा सकते हैं, और खुद के अच्छे Performance के लिए भी आप खुद को Bonus दे सकते हैं। यदि आप इस तरह से अपने Business से सम्बंधित हर तरह की गतिविधियों की Planning पहले से कर के चलते हैं तो, इससे आपको Personal Finance की planning में भी मदद मिलती है साथ ही आप अपनी मासिक आय और खर्च मालूम होने से अपनी बचत का Personal Finance के लिए प्रभावी तरीके से उपयोग कर सकते हैं।

(4) सही प्रोफेशनल एडवाइजर या कंसल्टेंट की मदद लें !

हर Professional के पास अपने खास क्षेत्र की Expertise होती हैं और एक व्यक्ति कभी भी सभी क्षेत्रो का Expert नहीं हो सकता, जहाँ एक तरफ एक Charted Accountant आपके खातो को मैनेज करने, Corporate Act और Business Audit इत्यादि में आपकी हेल्प कर सकता हैं वही एक Financial Planner आपको Business Risk Analysis and Management, Investment Planning आदि विषयों में आपकी मदद कर सकता हैं। ऐसे में आपको जरुरत के अनुसार सही और सटीक एक्सपर्ट की सलाह लेनी चाहिए ! कई बार ऐसा भी होता है की हमे किसी विषय की जानकारी नहीं होती है और उसके बावजूद भी हम बिना एक्सपर्ट की सलाह लिए उस बारे में स्वतः निर्णय ले लेते हैं, यह हमारे व्यवसाय को बहुत नुकसान पहुँचाता है, ऐसे में आप भी इस तरह के निर्णय को लेने से बचे !

यदि आप उपरोक्त विषयों को ध्यान में रखते हुए अपने बिज़नेस की प्लानिंग करते हैं तो आप अपने व्यवसाय का सही ढंग से प्रबंधन कर सकते हैं !

हम उम्मीद करते हैं की हमारा ये संकलन आपको बेहद पसंद आया होगा, तथा आपके बिज़नेस को मैनेज करने में प्रभावी साबित होगा ! यदि आप हमे कोई सुझाव देना चाहते हैं अथवा हमसे कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से दे अथवा पूछ सकते हैं ! धन्यवाद् !!

SHARE
Previous articleब्लॉगिंग में अपना करियर कैसे बनायें (How to make career in blogging)?
Next articleगर्मियों में घर पर बनाएं मशालेदार कूल ड्रिंक !
नमस्कार...!! इस खूबसूरत संकलन को आपलोगों के समक्ष ज्ञानवाटिका संपादन टीम के द्वारा प्रस्तुत किया गया है, जिसके प्रधान सम्पादक और एडमिन विकास कुमार तिवारी जी हैं. इस खूबसूरत संग्रह को बनाने और आपके समक्ष लाने में कई दिन और कई रातों का सतत प्रयास शामिल है, और हम आगे भी इसी निष्ठा से आपके समक्ष महत्वपूर्ण तथा अनमोल जानकारियों को संकलित कर प्रस्तुत करने के लिए प्रतिबद्ध हैं...! इसके साथ ही हम इस बात के लिए भी आशान्वीत हैं की आप सभी अपना महत्वपूर्ण सुझाव देकर, इस खूबसूरत संकलन को और खूबसूरत बनाने में हमारी मदद अवश्य करेंगे !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here