अपना व्यवसाय कैसे शुरू करें (How to start a Business)?

0
466
How to start your business ?

हम सभी लोगों में से अधिकांश लोग कभी ना कभी अपने मन में अपना बिज़नेस/व्यवसाय (Business) शुरू करने का मन जरूर बनाते हैं! बिज़नेस से सम्बंधित बड़े बड़े और शानदार बिज़नेस आईडिया (Idea) के साथ हम अपना खुद का कारोबार शुरू करने के सपने तो जरूर देखते हैं लेकिन असफ़ल होने के डर के कारण कभी भी अपने उन Ideas को बिज़नेस का मूर्त रूप नहीं दे पाते! इसी तरह हममे से कई लोग नौकरी(Job) छोड़कर अपना व्यवसाय शुरू करना चाहते है लेकिन अपने दैनिक जीवन में चल रहे पारिवारिक, सामाजिक और वितीय दबाव के कारण स्थापित नौकरी को छोड़कर रिस्क लेते हुए बिज़नेस शुरू करने के विचार से ही घबरा जाते है ! लेकिन यदि आप अपने दर को मिटा कर सकारात्मक सोच के साथ सही दिशा में धीरे धीरे अपना कदम बढ़ाकर आगे बढे तो आपको एक दिन लगेगा की आपका सारा डर ख़त्म हो चूका है और आप एक सफल व्यक्तित्व बन चुके हैं क्योंकि डर को मिटाने का एक ही तरीका है, और वो ये है कि हम वो कार्य अवश्य करें जिसे करने से हमें डर लगता हैं लेकिन साथ ही सतर्कता का भी ख्याल रखें !

आइये अब हम बात करते हैं की, अपने व्यवसाय की शुरुआत कैसे करें ?
How to start Journey of Entrepreneurship?

दरअसल किसी भी Business को शुरू करने से लेकर उसे एक बड़ी कंपनी (Company) बनाने तक का सफर एक इंटरप्रेन्योर (Entrepreneur) के लिए बहुत ही कठिन, रोमांचक और अद्भुत सफ़र होता है ! जिसमे वो लगातार योजना बनाता है और अपने सपने को सच करने के लिए कड़ी मेहनत करता है, साथ ही उसे कई मुसीबतों का सामना भी करना होता है तथा उन समस्याओं का हल निकालना होता है, असफलता को स्वीकार करके उससे सीख लेनी होती है ! शुरुआत में आपके सामने हजारों मुसीबतें आती है, लोग आपके आईडिया (Idea) पर विश्वास नहीं करते, आप कई बार असफल होते है, कई बार आत्मविश्वास डगमगा जाता है, लेकिन इस यात्रा में आपको हर बार गिरकर फिर से उठना होता है और दुगनी ताकत और हिम्मत के साथ आपको फिर से उसी कठिन रास्ते पर चलना होता है फिर अचानक एक दिन आपके लिए सफ़लता के द्वार खुल जाते है और आपकी किस्मत बदल जाती है, आप अपने बिज़नेस में इतनी तेजी से सफलता की सीढियाँ चढ़ते है कि आपको स्वंय पर विश्वास नहीं होता !

अब यदि आपने अपने मन में बिज़नेस करने और इंटरप्रेन्योर बनने का दृढ लक्ष्य बना लिया है तो निचे दी गयी कुछ बातों पर आपको विशेष ध्यान देना होगा !

(1) बिज़नेस का लक्ष्य (Business Vision) निर्धारित करना : सबसे पहले यह तय करें कि आप बिज़नेस क्यों करना चाहते है? आपका व्यवसाय करने का आखिरी लक्ष्य (Vision) क्या है? आप अपने व्यवसाय के द्वारा क्या और क्यों (What and Why) प्राप्त करना चाहते है और कितने समय (Time) में प्राप्त करना चाहते है? क्या आप करोड़पति बनना चाहते है? क्या आप वित्तीय स्वतंत्रता (Financial Freedom) चाहते हैं या आप कुछ और चाहते हैं, जो भी हो पहले सवालों का जवाब पूछे और उसे एक जगह नोट कर लें !

(2) बिज़नेस का प्रकार (Business Type) निर्धारित करना : बिज़नेस का लक्ष्य निर्धारित करने के पश्चात अब यह तय करें कि आप कौन सा बिज़नेस करना चाहते है? आप कौन सा प्रोडक्ट (Product) बनाएंगे या कौन सी सर्विसेज (Services) प्रदान करेंगे? क्या आप अपनी हॉबी को व्यवसाय (Business) का रूप देना चाहतें है या फिर कुछ ऐसा करना चाहते है जिसमे आपको अच्छा अनुभव (Experience) है? आपका Business Idea क्या है? आपका प्रोडक्ट क्या होगा? आपके कस्टमर कौन होंगे? इन सभी बातों का उत्तर भी आपको खुद से ही पूछना होगा, तो आप इन सवालों के उत्तर भी एक जगह लिख ले !

(3) बिज़नेस स्ट्रेटेजी (Business Strategy) बनाना : अब आप यह तय करें की आपकी बिज़नेस स्ट्रेटेजी क्या है? आप कैसे अपने व्यवसाय में सबसे अच्छे उत्पाद बनाएंगे या सेवाएं प्रदान करेंगे? कैसे आपका बिज़नेस आइडिया दूसरों से अलग (Unique) है और आपके बिज़नेस आईडिया में ऐसी क्या खास बात है कि आपका बिज़नेस आपको एक अच्छा परिणाम दे सकता है? आप कैसे अपने व्यवसाय को लेकर आगे बढ़ेंगे तथा आपका बिज़नेस मॉडल (Business Model) क्या होगा?

(4) बिज़नेस लोकेशन (Business Location) का निर्धारण : आप व्यवसाय कहाँ से करना चाहते हैं और कौन सी जगह से इसकी शुरुआत सही रहेगी? क्या आप अपने घर से अपने बिज़नेस की शुरुआत करेंगे या अपने व्यवसाय के लिए अलग से जगह लेंगे? यदि आप अलग से जगह लेना चाहते हैं तो क्या आप को वर्किंग स्पेस (CO-Working Space) लेंगे या खुद की जगह लेंगे ?

(5) बजट/पूँजी (Finance/Capital) का निर्धारण : अब आपको ये सोचना जरुरी है की आपको अपने व्यवसाय को शुरू करने के लिए शुरुआत में कितने रूपयों की जरूरत होगी और निरंतर रूप से व्यवसाय को चलाने के लिए कितने रूपयों की जरूरत होगी? आपका व्यवसाय कितने समय बात लाभ देना शुरू कर देगा ? आप ये सब प्लान करने के पश्चात अपने रूपयों की जरूरतों को इस प्रकार विभाजित कर सकते है :–
(A) सम्पति (Assets) – आपको अपने व्यवसाय को शुरू करने के लिए कौन-कौन सी सम्पतियों की जरूरत पड़ेगी जैसे भवन, जमीन, मशीनरी, फर्नीचर, वाहन आदि और आप इन सम्पतियों का इंतजाम कैसे करेंगे (खरीदेंगे या किराये पर लेंगे)? इन सम्पतियों के लिए कितने रूपयों की आवश्यकता होगी?
(B) खर्चे (Expenditure) – आपके व्यवसाय को निरंतर रूप से चलाने के लिए कौन कौन से खर्चें होंगे जैसे – कर्मचारियों की सैलरी, रखरखाव के खर्चे, किराया, विभिन्न प्रकार के कंसलटेंट की फीस आदि !

(6) मार्केट रिसर्च (Market Research) करना : उपरोक्त सभी प्लानिंग के बाद आप अपने व्यवसाय के मार्केट और इंडस्ट्री (Industry) का रिसर्च कीजिए ! आप ये रिसर्च विभिन्न तरीकों से कर सकते है, जैसे की : इन्टरनेट से जानकारी जुटाकर, बड़े-बड़े व्यवसाइयों से संपर्क करके, मार्केट के जानकारों से मिलकर या ई मेल करके, मार्केट की बड़ी-बड़ी कंपनियों की रिपोर्ट पढ़कर आदि ! मार्केट का रिसर्च करके आपको यह पता लगाना होता है कि डिमांड (Demand) और सप्लाई (Supply) क्या है? सबसे ज्यादा कौनसा प्रोडक्ट बिक रहा है और क्यों बिक रहा है? मार्केट में बिक रहे प्रोडक्ट में ऐसी कौन कौन सी कमियां है जिसे आप अपने प्रोडक्ट दूर करके मार्केट लीडर बन सकते है?

(7) बिज़नेस स्ट्रक्चर (Business Structure) की प्लानिंग : आपका बिज़नेस स्ट्रक्चर कैसा रहेगा? आप व्यवसाय कैसे शुरू करना चाहते है? क्या आप एक प्राइवेट लिमिटेड या लिमिटेड कंपनी (Company) से शुरुआत करना चाहते है या फिर एक पार्टनरशिप फर्म (Partnership Firm) या फिर एकल व्यवसाय के के साथ शुरुआत करना चाहते हैं? इनमे से कोई भी एक स्ट्रक्चर आप अपने बिज़नेस के वितीय स्त्रोतों को ध्यान में रखकर चुना सकते है ! बिज़नेस स्ट्रक्चर प्लान करने के बाद आप किसी वकील या चार्टर्ड एकाउंटेंट से मिलकर लीगल फॉर्मलिटीज को निबटा लें !

(8) बिज़नेस प्लान (Business Plan) बनाना : अब आप अपना लिखित बिज़नेस प्लान बनाइये और इसमें अपने व्यवसाय से सम्बंधित सभी बातों को शामिल करें ! आप बिज़नेस प्लान बनाने के लिए Startup Mantra या किसी अन्य प्रोफेशनल कंसलटेंट या कंसल्टिंग प्लेटफार्म की मदद ले सकते है !

(9) फंडिंग ऑप्शन्स (Funding Options) का निर्धारण : अब आप अपने व्यवसाय की वितीय जरूरतों को पूरा करने वाले सभी स्त्रोतों का विश्लेषण करें ! आपकी वितीय जरूरतें कैसे पूरी होंगी? क्या आप बैंक से लोन लेंगे, रिश्तेदारों और दोस्तों से लोन लेंगे या फिर खुद के पैसे से ही व्यवसाय शुरू करेंगे ? आजकल स्टार्टअप फंडिंग के कई सारे नए नए स्त्रोत उपलब्ध है जैसे एंजेल इन्वेस्टर्स, वेंचर कैपिटल फण्ड, क्राउड-फंडिंग आदि ! वितीय स्त्रोतों का चुनाव कर लेने के बाद फंडिंग या लोन के लिए आवेदन करें और फंडिंग की प्रक्रिया को समझें और फंडिंग से सम्बंधित सभी डाक्यूमेंट्स और बिज़नेस प्लान का इंतजाम करें !

(10) अब अपने व्यवसाय की शुरुआत करें (Start Your Business Now) : सभी वितीय जरूरतों का इंतजाम करने के बाद आप आप अपने व्यवसाय को शुरू करने की ओर धीरे धीरे कदम बढ़ाएं, धीरे धीरे अपने व्यवसाय के लिए सभी संसाधनों का इंतजाम करें जैसे की : कर्मचारियों की नियुक्ति, सम्पतियों की खरीद, प्रोडक्शन से सम्बंधित सभी संसाधनों का इंतजाम आदि ! बिजनेस के लिए जब पूरी प्लानिंग हो जाती है और आपके पास पूंजी भी, तो इसके बाद अहम चरण होता है, बिजनेस प्लान को व्यवहार में लाना। इस दौरान सेलिंग और कस्टमर सर्विस आदि का परीक्षण नए व्यवसायी के लिए एसिड टेस्ट की तरह होता है। इस दौरान आपको अपना शत-प्रतिशत कौशल दिखाना होगा, ताकि आप अपने सर्विस अथवा प्रोडक्ट्स के प्रति लोगों में भरोसा कायम कर सकें। तभी आप अपनी सफलता की कहानी शुरू कर सकते हैं !

(11) ब्रांडिंग और मार्केटिंग (Branding and Marketing) : किसी भी व्यवसाय के लिए ब्रांडिंग और मार्केटिंग अत्यंत महत्वपूर्ण है तो अब आप ये तय करें कि आप अपनी ब्रांडिंग और अपने ब्रांड की मार्केटिंग कैसे करेंगे? क्या आप विज्ञापन के द्वारा अपने व्यवसाय की मार्केटिंग करेंगे या फिर इन्टरनेट का उपयोग करेंगे? यदि आप इस सवाल का जवाब नहीं धुंध पा रहे है तो किसी कंसल्टिंग कंपनी या प्रोफेशनल कंसलटेंट की मदद ले सकते है, लेकिन बिना किसी सटीक प्लानिंग के इस काम को ना करें !

(12) टेक्नोलॉजी का प्रयोग (Use of Technology) : ये तेज रफ़्तार वाले कम्युनिकेशन, इंटरनेट, सोशल मीडिया और टेक्नोलॉजी आधुनिक युग है अतः आप भी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करें और अपनी वेबसाइट बनवायें तथा इसकी ऑनलाइन मार्केटिंग (Online Marketing) अवश्य शुरू करें ! आप सोशल मीडिया (Facebook, Tweeter, Google Plus, Instagram etc) पर अपने बिज़नेस के बारे में ज्यादा से ज्यादा लोगों को बताएं और विश्लेषण करें कि कैसे अब आप इन्टरनेट और टेक्नोलॉजी की मदद से अपने व्यवसाय को तेजी से सफलता की ओर आगे बढ़ाएंगे !

(13) USP : चुकी अब आप अपने बिज़नेस की शुरूआत कर चुके है अतः अब आपको लगातार मेहनत करनी है और अपने व्यवसाय को सफल बनाने के लिए नए नए तरीके ढूढ़ने है तथा धीरे धीरे अनुभव के आधार पर अपनी USP (Unique Value Proposition) का निर्माण करना है ! यानि कि ऐसी क्या बात है जो आपको दूसरों से अलग बनाती है|

(14) लीडरशिप (Leadership) : अपने व्यवसाय को निरंतर रूप से आगे बढ़ाते रहें और एक लीडर की तरह अपनी टीम का नेतृत्व करें! अपनी कर्मचारियों को कर्मचारी न समझकर अपनी पूंजी समझें और उनसे एक मित्र की भांति व्यवहार करें, आप जरूर सफलता की ऊंचाइयों को छुएंगे !

हम आपके उज्जवल भविष्य और सफल व्यवसायी बनने की कामना करते है, साथ ही उम्मीद करते हैं की आपको हमारा ये संकलन बहुत पसंद आया होगा। यदि आप हमे कोई सुझाव देना चाहते हैं अथवा आप कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में दे या पूछ सकते हैं। धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here