Ketogenic Diet क्या है और ये वजन कैसे कम करता है?

0
457
Ketogenic Diet क्या है और ये वजन कैसे कम करता है?

आजकल के समय में केटोजेनिक आहार (Ketogenic Diet) वजन कम करने का एक प्रभावी और लोकप्रिय तरीका बन चूका है। Ketogenic Diet के तहत लो कार्ब (Low Carbs) और उच्च वासा (High Fat) वाले भोजन का सेवन करना होता है। यह ना सिर्फ तेजी से वजन घटाने में केवल मदद करता है, बल्कि अन्य कई तरह के शारीरिक लाभ भी प्रदान करता है। तो आइये जानते हैं की, केटोजेनिक आहार अर्थात Ketogenic Diet क्या है और ये वजन कैसे कम करता है?

Ketogenic Diet क्या है और ये वजन कैसे कम करता है?

सामान्यतः हम जब अधिक कार्बोहाइड्रेट वाले आहार का सेवन करते हैं, तो इसके फलस्वरूप हमारे शरीर में ग्लूकोज़ एवं इन्सुलिन का निर्माण होता है। चुकी ग्लूकोज़ को हमारा शरीर आसानी से ऊर्जा में बदल देता है, अतः यह हमारे शरीर के लिए प्राथमिक ऊर्जा का स्त्रोत बन जाता है और तब हमारा शरीर फैट का ऊर्जा के रूप में इस्तेमाल नहीं करता और इस तरह हमारे शरीर में फैट जमा होने लग जाता है !

इसके विपरीत जब हम Ketogenic Diet या Keto Diet को चुनते हैं तब हमे अपने आहार में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बिल्कुल कम कर देनी होती है और हाई फैट की मात्रा बढ़ा देनी होती है। ऐसा करने की वजह से हमारे शरीर में कीटोसिस (kitosis) की स्थिति पैदा हो जाती है। किटोसिस एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जो भोजन की कमी होने पर हमें जिन्दा रखने में मदद करती है, और इस स्थिति में हमारा शरीर कीटोन्स का उत्पादन करना शुरू कर देता है जो की लिवर में फैट के बर्न होने बनते हैं।

और इस दौरान हमारा शरीर ब्लड गुल्कोस (कार्बोहाइड्रेट) की बजाय फैट के टुकडो (ketones) को तोड़ कर एनर्जी के रूप में इस्तेमाल करना शुरू कर देता है। यही कारण है की Ketogenic Diet तेजी से हमारे शरीर के फैट को ख़त्म करता है साथ ही तेजी से हमारे शरीर के वजन को भी कम करता है। और इस वजह से यह हमारे शरीर में रक्त शर्करा (Blood Glucose) के स्तर को भी तेजी से कम करता है, अतः डायबिटीज के मरीजों के लिए यह उपयुक्त आहार है।

केटोजेनिक आहार न केवल वजन कम करने का एक प्रभावी तरीका है, बल्कि यह कई जीवनशैली (Lifestyle) संबंधी बीमारियों के जोखिम को भी कम करता है। आइये जानते हैं की वजन घटाने के अलांवा Ketogenic Diet और किस तरह से हमारे शरीर के लिए फायदेमंद है !

कीटो डाइट के फायदे – Benefits of Ketogenic Diet in Hindi !

(1) मधुमेह (Diabetes) के मरीजों में रक्त शर्करा (Blood Glucose) के स्तर को कम करने में !
शरीर में Blood Glucose का लेवल जब आवश्यकता से अधिक हो जाता है तब यह मधुमेह (Diabetes) का रूप ले लेता है। चुकी Ketogenic Diet या Keto Diet के तहत दैनिक आहार में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बिल्कुल कम हो जाती होती है, और इस दौरान हमारा शरीर ब्लड गुल्कोस (कार्बोहाइड्रेट) की बजाय फैट के टुकडो (ketones) को तोड़ कर एनर्जी के रूप में इस्तेमाल करना शुरू कर देता है। अतः यह मधुमेह (Diabetes) के मरीजों में रक्त शर्करा (Blood Glucose) के स्तर को तीव्रता से कम करने में सहायक होता है !

(2) हृदय रोगों में !
केटोजेनिक आहार (Ketogenic Diet) ह्रदय रोगों को बढ़ावा देने वाली शारीरिक परिस्थितियों जैसे रक्तचाप, रक्त शर्करा, वसा और खराब कोलेस्ट्राल जैसे जोखिमों में सुधार करने के लिए प्रभावी पाया जाता है। अतः यह ह्रदय रोगों से रक्षा करने में सक्षम हैं !

(3) मानसिक एकाग्रता बढ़ाने में !
कीटो डाइट मस्तिष्क को भरपूर ऊर्जा प्रदान करने का सबसे अच्छा स्त्रोत है। उच्च गुणवत्ता वाले वसायुक्त और लो कार्ब्स आहार हमारे दिमाग की फोकस क्षमता और एकाग्रता को बढ़ाने के लिए पूर्णतः उपयुक्त है, साथ ही यह अल्जाइमर, पार्किंसंस और मिर्गी जैसे रोगों के लक्षणों में भी सुधार करता है !

(4) मुँहासों के उपचार में !
केटोजेनिक आहार (Ketogenic Diet) मुँहासों इत्यादि जैसे त्वचा संक्रमण को दूर कर हमारे शरीर के त्वचा को पूर्ण रूप सुन्दर बनाने में मददगार है !

इसके साथ ही जब आप अचानक से अपने आहार में परिवर्तन कर के Ketogenic Diet को शामिल करते हैं, तो आपको कुछ हल्की फुलकी परेशानियाँ भी हो सकती हैं ! आइये जानते हैं इस बारे में !

कीटो डाइट के नुकसान – Side Effects of Ketogenic Diet in Hindi !

कीटो डाइट के सामान्य दुष्प्रभाव निम्नलिखित हैं :

(1) शरीर में ऐंठन महसूस होना !
कीटो डाइट लेने से शरीर (ख़ासकर पैरों) में ऐंठन होना एक सामान्य बात है। यह आमतौर पर सुबह और शाम को अधिक महसूस होता है। हालांकि इस बात से घबराने की कोई ज़रूरत नहीं है, ये बस इस बात का संकेत देता है कि आपके शरीर में मैग्नीशियम और अन्य खनिजों की थोड़ी कमी है। ऐसा होने पर अपने आहार में अधिक से अधिक तरल खाद्य पदार्थ और नमक लें। इससे आपके शरीर में मैग्नीशियम की कमी पूरी हो जाएगी और ऐंठन की समस्या से राहत मिल जाएगी।

(2) कब्ज की समस्या का होना !
पानी की कमी कब्ज की एक सबसे सामान्य समस्या है। इसलिए इसका सबसे सरल समाधान है अधिक से अधिक पानी पिएं। साथ ही फाइबर और बिना स्टार्च वाली सब्जियों के सेवन से भी कब्ज़ से राहत मिलती है। यदि इन सब से भी राहत नहीं मिले, तो ईसबगोल की भूसी या प्रोबायोटिक का सेवन कर सकते हैं।

(3) घबराहट या दिल की धड़कन थोड़ी तेज होना !
जब आप कीटो डाइट अपनाते हैं, तो आपकी दिल की धड़कन पहले की उपेक्षा थोड़ी तेज़ हो जाती है और कभी कभार सांस लेने में भी थोड़ी परेशानी हो सकती है। हालांकि कीटो डाइट के शुरू करने पर ऐसा होना एक सामान्य बात है इसलिए चिंता न करें। इसे सामान्य स्थिति में लाने के लिए अधिक से अधिक पानी पिएं और नमक खाएं। आमतौर पर इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए ये पर्याप्त है। इसके अलावा यदि आप चाहें दिन में एक बार पोटैशियम सप्लिमेंट भी ले सकते हैं।

(4) कमजोरी का आभास होना !
जब आप किटो डाइट लेना शूरू करते हैं, तो हो सकता है कि आपके शारीरिक क्षमता में कमी आए और आपको कमजोरी का आभास हो। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आपका शरीर फैट को उर्जा के रूप में इस्तेमाल करता है। इसलिए परेशान होने की ज़रूरत नहीं है, कुछ ही दिनों में आपकी शारीरिक क्षमता पहले जैसी हो जाएगी।

हालांकि कीटो डाइट शरीर के लिए पूर्णतः फायदेमंद है और पूर्ण रूप से सुरक्षित भी है ! लेकिन हम यहाँ आपको ये हिदायत देते हैं की बगैर डॉक्टर या डायटीशियन से सलाह लिए इस डाइट को स्वतः शुरू ना करें ! क्योंकि हर किसी की शारीरिक स्थिति अलग होती है और उसे ध्यान में रखकर ही कोई भी डाइट चार्ट बनाया जा सकता है, अतः इसे शुरू करने से पहले किसी डॉक्टर या डायटीशियन से सलाह अवश्य ले लें अन्यथा इसके फलस्वरूप किसी भी तरह के होनेवाले दुष्प्रभाव के जिम्मेदार आप स्वयं होंगे !

हम आपके स्वस्थ एवं सुखी जीवन की कामना करते हैं ! साथ ही उम्मीद करते हैं, की ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके या आपके परिवार एवं मित्रगणों के लिए लाभप्रद सिद्ध होगी ! यदि आप हमे कोई सुझाव देना चाहते हैं अथवा हमसे कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से दे अथवा पूछ सकते हैं ! धन्यवाद् !!

SHARE
Previous articleभारत का तीसरा गेट, सभ्यता द्वार (गेटवे ऑफ़ बिहार) !
Next articleअगर गंगा को बचाना है, तो आइये मिलकर पेड़ लगाएं !
नमस्कार...!! इस खूबसूरत संकलन को आपलोगों के समक्ष ज्ञानवाटिका संपादन टीम के द्वारा प्रस्तुत किया गया है, जिसके प्रधान सम्पादक और एडमिन विकास कुमार तिवारी जी हैं. इस खूबसूरत संग्रह को बनाने और आपके समक्ष लाने में कई दिन और कई रातों का सतत प्रयास शामिल है, और हम आगे भी इसी निष्ठा से आपके समक्ष महत्वपूर्ण तथा अनमोल जानकारियों को संकलित कर प्रस्तुत करने के लिए प्रतिबद्ध हैं...! इसके साथ ही हम इस बात के लिए भी आशान्वीत हैं की आप सभी अपना महत्वपूर्ण सुझाव देकर, इस खूबसूरत संकलन को और खूबसूरत बनाने में हमारी मदद अवश्य करेंगे !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here